वो तुम हो।


सफर, हमसफर, सफर की मंजिल तुम हो,
मेरी जान, ज़िंदगी ,हर खुशी हर ग़म तुम हो

सभी कहें की एहसास दिखाई नहीं देते,
जिसकी आँखों मे दिखे प्यार हरदम, तुम हो।

अब ज़िंदगी को तो मैं बस यूं ही गुनगुनाता हूँ,
क्योंकि इस हंसी गीत की सरगम तुम हो।

चाह यही की यूं ही जिये जाऊँ मैं,
जब तलक इस चाह की धड़कन तुम हो।

Advertisements

2 Comments (+add yours?)

  1. Ranjit
    May 24, 2012 @ 11:06:48

    Meri Jaan, Sarkari officer our Shayar Woh Tum Ho,
    Par aajkal tum kahan gum Ho……

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: