Visit to Daman


It was a God sent opportunity to visit Daman. Daman was a Portugues settlement and remained even under the control of Portugal till late when it was annexed by India as a Union Territory. Daman has few beaches but beach sand is now of balcony floor due to the pollution brought in by the Daman Ganga river to sea while passing through Vapi industrial Area. The beaches are dotted with numerous resorts where people from neighbouring state rush to during the weekend for drinks and food as Gujarat is a dry state.

The churches inside the old fort dates back to 1906 when Portuguese initially came to Daman and started building them. The one church is unique in the sense with explicit wood carvings showing the life of lady Mary. Initially all these wood carvings were covered with golden leaf work.

Here are few pics

                  

Birding in Gwaldam


I have visited Gwaldam in Uttrakhand for birding during the first week of October 2014. The birding was done around Gwaldam particularly the forest area around SSB training Academy. Following birds have been spotted-

Scaly Breasted Munia

Pied Bushchat

Yellow Breasted Greenfinch

Black naped Monarch

Ultramine Flycatcher

One Flycatcher to be Identified

Verditer Flycatcher

Spangled Drongo

Black Drongo

White Cheeked Nuthatch

Kashmir Nuthatch

Grey Bushchat

White throated Laughingthrush

Rufous Naped Tit

Grey Cheeked or Grey Hooded Warbler

Himalayan Bulbul

Fire Capped Tit

IMG_9187-cropped IMG_9222 IMG_9226 IMG_9233 IMG_9237 IMG_9241 IMG_9247 IMG_9256 IMG_9286 IMG_9292 IMG_9299 IMG_9301 IMG_9313 IMG_9317 IMG_9318 IMG_9323 IMG_9331 IMG_9339 IMG_9366 IMG_9404 IMG_9410 IMG_9424 IMG_9446 IMG_9459 IMG_9479 IMG_9481 IMG_9482 IMG_9488 IMG_9499 IMG_9525 IMG_9533 IMG_9534 IMG_9549 IMG_9602 IMG_9610 IMG_9640 IMG_9654 IMG_9658 IMG_9740 IMG_9743 IMG_9755 IMG_9760 IMG_9761 IMG_9763 IMG_9766 IMG_9778 IMG_9781 IMG_9782 IMG_9806 IMG_9807 IMG_9814 IMG_9822 IMG_9835 IMG_9837 IMG_9838 IMG_9864 IMG_9865 IMG_9179

Trek to Gwaldam Nag Temple


Trek on 5 October 2014.
Weather was good and no heavy woolens are required.

Guide for trek is must as there are so many pathways branching out from main trek leading to villages around.

I was excited about the trek to Gwaldam Nag temple. Gwaldam Nag temple trek begins from the vicinity of SSB training academy located in Gwaldam. Gwaldam Nag trek is of around 5 KM from the road. The trek follow trail all through the forest till you reach on the top of mountain. The trek is initially steep and then moderate. As I moved into the forest there was sound of firing from the firing range of academy. On the route one can spot beautiful birds and lot of orchids and wild mushrooms. Mushroms with lot of hues and colors and one in particular looking like white coral. As I moved there was music of Small Minivtes both male and female. We stopped for a while and captured them in camera.
After trekking for half an hour we took rest for almost 15 minutes and moved forward. On the way we found some plants which are being used in Vico Vajradanti. There was a plain area which is being used for picnic. After trekking again for 15 minutes we reached on the top of hill and it was the first view of Bugyal covered with a carpet of white flowers.
From the top of hill one can have magnificent view of Trishul, Nanda devi peaks. The bugyal is clearly being used by the locals as grazing grounds. The Gwaldam Nag temple has been renovated and newly built construction under which Nag Devta is now presiding. Earlier it was only stone structure. The site is also preserved by the Archeological Survey of India. We had darshan of the Nag Devta and it was surprising to see that even in the morning someone came and lit the Jyoti in the temple.
While returning back we lost the way and went into the dense forest. After walking fr few KM there was steep slope and it was not possible to climb down. We found one way to further climb down and we found a water pipeline passing through there. It was a prudent decision to walk along the water pipeline for few KM and then we climbed up again to the Nag Mandir. Thus it was a trek of another 6 KM to climb down and climb up over a highly steep slope to reach on the top. But this trek gave a feeling of steep trek in dense forest with no trail. It was during this trek we spotted the Monal and Nutach.
Once we reached at the top we took a sigh of relief and followed the right trek to climb down. Climbing down was more difficult as usual with the surface very slipper due to green lichens grown over it. As we started the trek around 9 Am and reached back to our place at around 2:30 PM to find the lunch waiting for us.
???????????????????????????????

???????????????????????????????

???????????????????????????????

???????????????????????????????

???????????????????????????????

???????????????????????????????

???????????????????????????????

???????????????????????????????

IMG_9685

IMG_9698

IMG_9716

IMG_9720

IMG_9755

IMG_9759

Chanana Dham: SriGanganagar, Rajasthan


Chanana Dham was established in year 1971. Dham is located near Padampur town in SiGnaganagar district bordering Pakistan in India. The sotry goes that Lord Hanuman directed the devotee named Ramswarupji Bagaria that this Dham will be second to Salasar Dham (in Churu district). Lord Hanuman Himslef directed the devotee that the place for the lord should be marked and the four bricks should be placed at this place. Later when devotee was not sure of the place where he should place the bricks, lord himself gave direction and showed himself in form of light at a particular place. At the same place the foundation of the temple was laid down with four bricks. After that with the donations from the devotees started pouring in and a huge temple was constructed. The temple has three huge shikhars and a large hall for worship. Chanana Dham is now second to Salasar Balaji Dham. Follwoing are the photographs of the Chanana Dham Balaji and the temple. God bless all of you.

    Chanana Dham

    Chanana Dham

    Chanana Dham

    Chanana Dham

    Chanana Dham

    Chanana Dham

    Balaji

    ???????????????????????????????

    Chanana Dham

Birding around Sri Ganganagar: Rajasthan


Yesterday was a good day for birding around 32ML in Shri Ganganagar Rajasthan. I managed to see Black Francolin and Grey Francolin. The Grey francolin were chasing each other. Apart from Francolins, I spotted some other birds including Pied Bushchat, Green Bee-eaters, shrikes and Prinia. Common Chat, I am posting the pics, please help in identification of pipit and shrike.

???????????????????????????????

IMG_3363_1_1

IMG_3376_1_1

IMG_3384_1_1

IMG_3420_1_1

IMG_3426_1

???????????????????????????????

IMG_3452_1_1_1

IMG_3512_1_1

IMG_3527_1

IMG_3576_1_1

IMG_3623_2_1

IMG_3657_1_1

IMG_3672_1_1_1

IMG_3676_1

IMG_3688_1_1

IMG_3721_1_1IMG_3452_1_1_1

Badopal Lake: Birding in Hanumangarh, Rajasthan


Badopal Lake is a fresh water lake located in the Pilibanga Tehsil of the Hanumangarh district. It is also close to Ganganagar. The lake is on the plains of Ghaggar river (mythical Saraswati river). Initially when i cane to know about the Badopal i was not too much excited because neither i heard about it earlier nor there was any good reviews on internet. Anyway decided to move and started early in the morning from shri Ganganagar. I reached Badopal just at the sunrise. The colors of the lake were amazing and provided great opportunity for photography. At entry i was greeted by the Greater Flamingos, Northern Shovelers, Black winged Stilts, Common Coots etc. As i moved ahead to other side of the lake, there were hundreds of the Greater Flamingos. Few were about to take flight and few were landing. Apart from Flamingos, there were Plovers and Pied Avocet.

flying flamingos_1_1

IMG_2200_1_1

IMG_2201

IMG_2208_1

IMG_2285_1_1

IMG_2286_1_1

IMG_2293_1_1_1

IMG_2318_1

IMG_2330_1_1

IMG_2343_1

IMG_2350_2

IMG_2358_1_1

IMG_2359_2

IMG_2382_1_1

IMG_2401_1_1

IMG_2466_1_1_1

IMG_2502_1_1_1

IMG_2506_1_1

IMG_2520_1_1_2

IMG_2532_1_1

IMG_2553_1_1

IMG_2565_1_1

IMG_2595_1

Gurudwara Sahib Budha Johad: Shri Ganganagar


Grudwara Sahib, Budha Johar in Shri Ganganagar district is sacred place. As per the history told by the Granthi in Gurudwara, this place played a sacred role in giving shelter to Sikh fighter against the atrocities of inavaders during the 17th Century. Bhai Balaka Singh,brought the bad news of the occupation of Harminder Sahib by Massa Rangad Singh. Massa Rangad Singh used the sacred place inappropriate pruposes which led to the journey of Mahitab Singh and Sukha Singh to Harminder Sahib. They cut the head of Massa Rangad and brought it to this place. This place has been named after Jathedaar Budha Singh who stayed here.

Below are some photographs depicting this part of history available in the Museum at the Gurudwara.
???????????????????????????????

???????????????????????????????

???????????????????????????????
The following is the reproduction of the pamphlet regarding the history of Gurudwara Budha Johar Sahib being distributed in the Gurudwara itself-
यह स्थान राजस्थान प्रांत के जिला श्रीगंगानगर की रायसिंहनगर तहसील के गाँव डाबला के कोई एक किलोमीटर की दूरी पर करनी जी नहर के किनारे पर है। शहीद नगर गुरुद्वारा बूढ़ा जोहड़ के साथ सिख इतिहास का संबंध 17 वी शताब्दी की शुरुआत से जुड़ता है i बूढ़ा जोहड़ का अर्थ है पुराना छपर यहा 20 मुरब्बे नीची जगह है जहा बरसात के मोसम मे कई मिलो तक का पानी नीचे की तरफ चलता हुआ इकट्ठा हो जाता हैi
बाबा बंदा सिंह बहादुर की शहादत के बाद मुगल हुकूमत ने पंजाब के सिखों पर जुल्म जबर की हद कर दी फुर्खसिअर बादशाह ने हुकुम जारी किया कि जहा भी कोई सिख मिले उसे कत्ल कर दोi सिखो के सिरों की कीमत डालने लगीi उस जुल्म जबर के दोर मे हुकूमत ने सिखो को पंजाब से अपने घर बार छोडकर दूर दराज के इलाको पर जाने के लिए मजबूर कर दियाi
सन 1731 ई॰ मे नादर शाह ने दिल्ली पर कब्जा कर लिया यहा से बेशुमार दौलत लूटी और पंजाब से होते हुए अफगनिसथान को लॉट रहा था सिखो ने उस के काफिलो पर हमले कर के बहुत सारा माल और बहुत सारी नोजवान लड़कियो को उन के काफिलो से मुक्त करवाकर उन के घर वापिस पहुंचाया। नादर शाह इस बात से बहुत क्रोधित हुआ और जक्रिया खान को सिखो का नामो निशान मिटाने का हुकम दिया सिखो के विरूध लाहोर से जकरिया खान ने को सिखो का नामो निशान मिटाने का हुकम दिया। सिखो के विरुद्ध लाहोर से जकरिया खान ने फोज भेजी माझे से नवाब जकरियाखान से सताए हुये दुआबे से आदिन बेग फोजदार जालंदर मालवे से सूबा सरहद के जुल्मो का शिकार हुये सिख विपदा के समय अपने घर बार छोड़ के राजस्थान की बीकानेर रियासत के मरुस्थल वीरान जंगल मे आ गये इस जगह पर पानी काफी तादाद मे था यहा पर ही डेरे लगा लिए क्यूकि जकारिया खान ने सिखो के खात्मा के लिये अमृतसर के चोधरिया और सरकारी मुखबीनों को सिखो के विरुद्ध पूरी तरह तेयार किया हुआ था जदयाले गुरु के हरी भगत नीरजनिए मंडियाली का मस्सा रगर, करमा छीना, रामा रंधावा, नोशहरे वाले जोध नगरिया मजीठा के चोधरिया ने इस काम मे सरकार की पूरी मदद कीi
इस जुल्म के दोर मे सिखो की एक ज्त्थेदारी ने शहीद नगर गुरुद्वारा बूढ़ा जोहड़ वाले इस स्थान को अपनी रिहायशगह बनाया हुआ था उस समय यह स्थान बिलकुल उजाड़ जंगल बियावन था जिसमे जहरीले सापो की भयानक फूंकरो का शोर रहता था i
सन 1740 ई० मे इस स्थान पर सिखो के एक के जत्थे ने जत्थेदार बूढ़ा सिंहजी जेत्थेदारी मे डेरा लगाया था उस समय भाई बलाका सिंह नाम के सिख ने डेरा लगाया हुआ था उस समय भाई बलाका सिंह नाम डीएस सिक्ख ने खबर दी कि सिखों के पंजाब छोडने के बाद मांडयाली गाँव के मस्सा रंगड़ ने श्री हरमंदिर साहिब पर कब्जा कर लिया है वहाँ शराब के दौर चलते है कंजरियों के नाच होते है गुरु घर की घोर बेअदबी हो रही है ।
भाई बलाका सिंह से दुखदायी खबर सुन के इकट्ठे हुए सारे सिख जोश मे आ गए समय की नजाकत को देखते हुए जत्थेदार बुढ़ा सिंह की इच्छा और हाजिर के फैसले अनुसार दो सुरमे महिताब सिंह मीरा कोट और सूखा सिंह माड़ी कंबोकी ने श्री हरमदिर साहिब अमृतसर की पवित्रता को बहाल करने का बीड़ा उठाया और मस्सा रंगड़ का सिर काट कर बुढ़ा जोहड़ लाने के लिए अरदास की। अरदास के बाद दोनों सूरवीर घोड़ो पर सवार हो कर अमृतसर को चल दिये ।
इतिहास मे ज़िकर मिलता है ये दोनों सुरमे बुढ़ा जोहड़ से चलकर श्रीदमदमा साहिब तलवंडी साहिब पहुंचे और अपनी सफलता की अरदास के लिए दमदमा साहिब मे हाजिर हुए तो उस समय दशम पातशाह की बाणी के बारे मे विवाद चल रहा था । सिक्खो का एक समूह दशम पातशाह की बाणी को अलग अलग पोथियों मे रहने देना चाहते थे । सूखा सिंह और महिताब सिंह की अरदास के समय यह फ़ैसला हुआ कि अगर सूखा सिंह और महिताब सिंह दुष्ट मस्सा रंगड़ का सिर काट कर उसका सिर सही सलामत बुढ़ा जोहड़वापिस पहुँच जाते है तो दशम पातशाह की सारी बाणी को एक जिल्द मे एकत्रित कर दशम पातशाह का स्वरूप तैयार किया जाएगा अगर वो इस कम मे सफल न हो सके तो दशम पातशाह की बाणी को अलग अलग पोथियों मे ही रहने दिया जाएगा । गुरु की मेहर का सदका भाई महिताब सिंह और सूखा सिंह अपने उद्देश्य मे सफल हो गए मस्सा रंगड़ का सिर काट कर बुढ़ा जोहड़ लाया गया इस तरह दशम पातशाह कि बाणी के बारे मे छिड़े विवाद का अंत हुआ ।
भाई सूखा सिंह महिताब सिंह ने तरंतारण के नजदीक पहुँच कर चौधरियों के वेश बना लिए अपने गाँव का मामला भरने के बहाने से ठीकरियों को कि थैलियो मे भर ली जब दोनों सिक्ख अमृतसर पहुंचे तो पहले ही तैयार योजना अनुसार उन्होने घोड़े अकाल बुंगे के सामने इलायची बेरी से बांध दिये और अरदास कर के दोनों सुरमे हरमंदिर साहिब पहुंचे तो मस्सा रंगड़ अपनी लुच्च मंडली के साथ हरमंदिर साहिब मे खाट पर बैठा हुक्का पी रहा था । कंजरिया नाच रही थी और शराब का दौर चल रहा थे । जब उसको कहा गया कि चौधरी मामला भरने आए है तो उन्हे थैलिया पेश करने का हुकम दिया थैलिया पेश होने पर मस्सा रंगड़ उठ कर उन्हे देखने लगा तो भाई महिताब सिंह ने फुर्ती से अपने श्री साहिब का वार कर उसके सिर को धड़ से अलग कर दिया सूखा सिंह ने पलक झपकते ही मस्सा रंगड़ के कटे सिर को अपने भाले पर टांग लिया वहाँ अफरा तफरी मच गई वहाँ इकटठा सारी लुच्च मंडली भाग गई दोनों सुरमे भाले पर टंगे सिर को लेकर फुर्ती से अपने अपने घोड़ो पर सवार होकर अमृतसर की सीमा को पार कर गए ये दोनों सुरमे अपनी की हुई अरदास को पूरा करते हुए वापिस बुढ़ा जोहड़ को चल दिये रात हनुमानगढ़ शहर के पास काटी यहाँ से चल कर सूखा सिंह और महिताब सिंह बुढ़ा जोहड़ बाबा बुढ़ा सिंह के जत्थो के सिक्खो के पास आ पहुंचे और मस्सा रंगड़ का कटा हुआ सिर वहाँ एकत्रित खालसा दल के दीवान मे पेश किया इस कार्य की सफलता के लिए शुक़राने की अरदास की गई ।
कुछ समय बाद महिताब सिंह जी बुढ़ा जोहड़ से वापिस अमृतसर जाते समय किसी मुखबिर की सूचना पर पकड़े गए और लाहौर मे बहुत तसीहें देकर शहीद कर दिए गए।
स. बंदासिंह बहादर की शहादत के बाद 17वीं सदी की शुरुआत मे मुगल हकूमत के ज़ुलम जबर से बचने के लिए और विपदा का समय टालने के लिए दल खालसा के सिख इस बूढ़ा जोहड़ के स्थान पर कुछ समय के लिए आ गए जिस कारण इस स्थान का सिख इतिहास मे महत्वपूरण संबंध है । जत्थेदार बुढ़ा सिंह के नाम पर इस स्थान का नाम बुढ़ा जोहड़ रखा गया । सन 1947 तक बुढ़ा जोहड़ की तरफ किसी का ध्यान नहीं गया पंजाबी आबादी की गिनती काफी हो गई सारा इलाका और हरा भरा हो गया ।
शहीद नगर गुरुद्वारा साहिब बुढ़ा जोहड़ की नीव सन 1953 मे संत फतह सिंह जी द्वारा रखी गई कुछ कच्चे मकान और पानी की डिग्गी 1954 मे बनाई गई गुरुद्वारे और लंगर का खर्चा चलाने के लिए 2 मुरब्बे जमीन खरीदी गई ।
27 फरवरी 1956 को गुरुद्वारा साहिब की पक्की ईमारत का कम शुरू हुआ इस काम मे हरनाम सिंह ठेकेदार ने बहुत योगदान दिया । इलाके के श्र श्रदालुओ ने अपने ट्रैकटर , ईंटों , सीमेंट और हाथो से सेवा करके अधिक सा अधिक योगदान दिया । गुरुद्वारा साहिब के मेन हाल की लंबाई चौड़ाई तकरीबन 124×99 है । हाल मे एक ही समय मे हजारो की तादाद मे श्रद्धालुओ के बैठने का खुला प्रबंध है । इस के अलावा एक बहुत बड़ा दीवान हाल है । जिस मे अमावस्या पर दीवान लगता है गुरुद्वारा साहिब के अंदर निर्मल जल का एक सुंदर सरोवर है । जिसमे हजारो श्रद्धालु स्नान करते है । जिस के चारो ओर संगमरमर की परिक्रमा बनी हुई है । इस सरोवर की गहराई 12 फुट है । सरोवर से पानी निकालने और ताजा पानी अंदर लाने के लिए एक हँसली बनी हुई है । गुरुद्वारा साहिब के आस पास आमों के बाग है । यहाँ पर हर महीने की अमावस्या को मेला लगता है । जिस मे दूर दूर से श्रद्धालु आते है , यहाँ बड़ा भारी मेला लगता है । अमावस्या पर लंगर पकाने की सेवा आस पास के सिक्ख और माताएँ बहने करती है ।
लंगर के लिए बहुत बड़े बड़े हाल है । जहां एक समय मे हजारो की तादाद मे छकते है । इसके अलावा लंगर मे गैस भटिओ का इंतजाम है । संगतों के रात ठहरने के लिए करीब 120 कमरे बने हुए है सभी कमरो मे चारपाई और बिस्तर भी है पंखे लगे हुए है । अब चपाती बनाने के लिए मशीन लगी हुई है ।
गुरु ग्रंथ साहिब जी के सुख आसन के लिए संचखण्ड हाल बना हुआ है । जिसको परदेश के श्रद्धालुओ ने बनवाया है । साथ ही लंगर हाल की इमारत सरोवर की परिक्रमा और कालेज की इमारत विद्यार्थियो के रहने के लिए कमरे भी परदेश की संगतों द्वारा ही बनवाए जा रहे है ।
शहीद नगर गुरुद्वारा साहिब बूढ़ा जोहड़ मे दो विद्यालय चल रहे है । एक सुखा सिंह भाई महिताब सिंह विद्यालय है जिस मे करीब एक सौ बच्चे है । जिनके रहने सहने लिए लंगर पानी साबुन तेल आदि का खर्च लिखाई , पढ़ाई का खर्च शहीद नगर गुरुद्वारा साहिब बूढ़ा जोहड़ ट्रस्ट द्वारा किया जाता है । इसके अलावा एक सिक्ख मिशनरी कालेज भी चल रहा है जिस मे करीब 90 विद्यार्थी है । जिनको संगीत विद्या दी जाती है । गुरुद्वारा ट्रस्ट की तरफ से विद्यार्थियो की और प्रोफेसरो के रहने खाने पीने लंगर आदि की व्यवस्था की जाती है । कालेज और विद्यालय के बच्चो को वजीफा भी दिया जाता है । स्कूल और कालेज के किसी बच्चे से किसी प्रकार का कोई चार्ज नहीं लिया जाता है । सब कुछ निशुल्क है वजीफा अलग अलग से दिया जाता है । इस स्कूल और कालेज के सेकड़ों बच्चे देश विदेश मे ग्रंथी और रागी की भूमिका निभा रहे है ।
इस शहीद नगर बूढ़ा जोहड़ के प्रबंध के लिए संत फतेह सिंह द्वारा एक ट्रस्ट बना दिया था जिस के 13 मेम्बर है ।

???????????????????????????????

???????????????????????????????

???????????????????????????????

???????????????????????????????

???????????????????????????????

???????????????????????????????

???????????????????????????????

???????????????????????????????

???????????????????????????????

Previous Older Entries